तास

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तास ^१ संज्ञा पुं॰ [फ़ा॰]

१. एक सुनहरे तारों का जड़ाऊ कपड़ा । उ॰—ये तास का सब वस्त्र पहने थी और मुँह पर भी तास का नकाब पड़ा हुआ था ।—भारतेंदु ग्रं॰, भा॰ ३, पृ॰ १८८ ।

२. बड़ा तश्त । परती (को॰) ।

३. वह कटोरा जो जलघड़ी की नाँद में पड़ता था (को॰) ।

तास ^२ सर्व॰ [हिं॰] दे॰ 'तासु' । उ॰—अनल पंषि लड़ि, चढ़ि आकाश, थकित भई हूँ छोर न सास ।—सुंदर ग्रं॰, भा॰ २, पृ॰ ८४८ ।