सामग्री पर जाएँ

तिन

विक्षनरी से

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तिन † ^१ सर्व॰ [सं॰ तेन (= उनसे)] 'तिस' शब्द का बहुवचन । जैसे, तिनने, तिनको, तिनसे इत्यादि । उ॰—तिन कवि केशवदास सों कीनों धर्म सनेह ।—केशव (शब्द॰) । विशेष—अब गद्य में इस शब्द का व्यवहार नहीं होता ।

तिन ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ तृण] तिनका । तृण । घासफूस । उ॰—ह्वै कपूर मनिमय रही मिलति न दुति मुकुताले । छिन छिन खरो बिचच्छनौ लखहि छाय तिन आलि ।—बिहारी (शब्द॰) ।