तिमिर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तिमिर संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. अंधकरा । अँधेरा । उ॰— काल गरज है तिमिर अपारा ।—कबीर सा॰, पृ॰ २ ।

२. आँख का एक रोग । विशेष— इसके अनेक भेद सुश्रुत मे बतलाए हैं । आँखों से धुँधला दिखाई पड़ना चीजें रंग बिरंग की दिखाई पड़ना, रात को न दिखाई पड़ना आदि सब दोष इसी के अंतर्गत माने गए हैं ।

३. एक पेड़ । (वाल्मीकि॰) ।

तिमिर पु संज्ञा पुं॰ [हिं॰] दे॰ 'तिमिर' । उ॰— जथ गुरु तेज प्रचंड तेमिरि पाखंड विहंडन ।— नट॰, पृ॰ ९ ।