तीसरा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तीसरा और पाँचवाँ अक्षर तथा य, र, ल और व । अल्पप्राण ये हैं—क, ग, ङ, च, ज, ञ, ट, ड, ण, त, द, न, प, ब, म, य, र, ल और व ।

तीसरा वि॰ [हिं॰ तीन + सरा (प्रत्य॰)]

१. क्रम मे तीन के स्थान पर पड़नेवाला । जो दो के उपरांत हो । जिसके पहले दो ओर हों । उ॰—दूसरे तीसरे पाँचमें सातमें आठमें तो भखा आइवो कीजिए ।—ठाकुर॰, पृ॰ २ ।

२. जिसका प्रस्तुत विषय से कोई संबंध न हो । संबंध रखनेवालों से भिन्न, कोई और । जैसे,—व हमारी बात, न तुम्हारी बात, तीसरा जो कहे, वही हो । यौ॰—तीसरा पहर = दोपहर के बाद का समय । दिन का तीसरा पहर । अपरह्न ।