तुला

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तुला संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. सादृश्य । तुलना । मिलाप ।

२. गुरुत्व नापने का यंञ । तराजू । काँटा । यौ॰—तुलादंड़ ।

३. मान । तौल ।

४. अनाज आदि नापने का बरतन । भांड ।

५. प्राचीन काल की एक तौल जो १०० पल या पाँच सेर के लगभग होती थी ।

६. ज्योतिष की बारह राशियों में से सातवीं राशी । विशेष—मोटे हिसाब से दो नक्षत्रों और एक नक्षत्र के चतुर्थांश अर्थात् सवा दो नक्षत्रों की एक राशि होती है । तुला राशि में चित्रा नक्षत्र के शेष ३० दंड तथा स्वाती और विशाखा के आद्य ४५-४५ दंड होते हैं । इस राशी का आकार तराजू लिए हुए मनुष्य का सा माना जाता है ।

७. सत्यासत्यानिर्णिय की एक परीक्षा जो प्राचीन काल में प्रचलित थी । वादी प्रातिवादी आदि की एक दिव्य परीक्षा । वि॰ दे॰ 'तुलापरीक्षा' । ८, वास्तु विद्या में स्तंभ (खंभे) के विभागों में से चौथा विभाग ।