त्रसरेणु

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

त्रसरेणु ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰] वह चमकता हुआ कण जो छेद में से आती हुई धूप में नाचता या घूमता दिखाई देता है । सूक्ष्म कण । विशेष— मनु के अनुसार एक त्रसरेणु तीन परमाणुओं से मिलकर और वैद्यक के अनुसार तीन परमाणुओं से मिलकर बना होता है ।

त्रसरेणु ^२ संज्ञा स्त्री॰ पुराणानुसार सूर्य की एक स्त्री का नाम ।