त्राण

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

त्राण ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. रक्षा । बचाव । हिफाजन ।

२. रक्षा का साधन । कवच । विशेष— इस अर्थ में इसका व्यवहार यौगिक शब्दों के अंत में होता है ।जैसे, पादत्राण, अंगत्राण ।

३. त्रायमाण लता ।

त्राण ^२ वि॰ जिसकी रक्षा की कई हो । रक्षित [को॰] ।