त्रिकुटी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

त्रिकुटी संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ त्रिकूट] त्रिकूट चक्र का स्थान । दोनों भौंहों के बीच के कुछ ऊपर का स्थान । उ॰—पूरन कुंभक रेचक करहू । उलट ध्यान त्रिकुटी को धरहू ।—विश्राम- (शब्द॰) ।