त्रिपाण

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

त्रिपाण संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. वह सूत जो तीन बार भिगोया गया हो (कर्मकांड) । वल्कल । छाल ।