थकना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

थकना क्रि॰ अ॰ [सं॰ √स्तभ् वा √स्था + करण - √कृ॰, प्रा॰ थक्कन अथवा देश॰ ]

१. परिश्रम करते करते और पिरश्रम के योग्य न रहना । मिहनत करते करते हार जाना । जैसे, चलते चलते या काम करते करते थक जाना । संयो॰ क्रि॰—जाना ।

२. ऊब जाना । हैरान हो जाना । जैसे,— कहते कहते थक गए पर वह नहीं मानता । संयो॰ क्रि॰ —जाना ।

३. बुढ़ापे से अशक्त होता । बुढ़ापे के कारण काम करने के योग्य न रहना । जैसे— अब वे बहुत थक गए, घर ही पर रहते हैं । संयो॰ क्रि॰—जाना ।

४. मंदा पड़ जाना । चलता न रहना । धीमा पड़ जाना ढीला होना या रुक जाना । जैसे, कारबार का थक जाना, रोजगार का थक जाना ।

५. मोहित होकर अचल हो जाना । मुग्ध होना । लुभाना । उ॰— (क) थके नयन रघुपति छबि देखी ।— तुलसी (शब्द॰) । (ख) थके नारि नर प्रेम पियासे ।—तुलसी (शब्द॰) ।