थाप

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

थाप संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ स्थापन]

१. तबले, मृदंग आदि पर पूरे पंजे का आघात । थपकी । ठोंक । उ॰— सृदृढ़ मार्ग पर भी द्रुत लय में यथा मुरज की थापें है । —साकेत॰, पृ॰ ३७२ ।