दइमारा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

दइमारा वि॰ [हिं॰] [वि॰ स्त्री॰ दइमारी] दे॰ 'दईमारा' । उ॰— (क) दूध दही नहिं लेव रौ कहि कहि पचिहारी । कहति सूर कोऊ घर नाहीं कहाँ गई दइमारी ।—सूर (शब्द॰) । (ख) आखु धरन हित दृष्ट मँजारी । मो परि उचरि चरी दइमारी ।—नंद॰ ग्रं॰, पृ॰ १४८ ।