दवा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

दवा ^१ संज्ञा स्त्री॰ [फा़॰]

१. वह वस्तु जिससे कोई रोग या व्यथा दूर हो । औषध । ओखद । उ॰—दरद दवा दोनों रहैं पीतम पास तयार ।—रसनिधि (शब्द॰) । यौ॰—दवाखाना । दवादारू । दवादर्पन । दवादरमन । मुहा॰—दवा को न मिलना = थोड़ा सा भी न मिलना । अप्राप्त होना । दुर्लभ होना । दवा देना = दवा पिलाना ।

२. रोग दूर करने का उपाय । उपचार । चिकित्सा । जैसे,— अच्छे बैद्य की दवा करो । क्रि॰ प्र॰—करना ।—होना ।

३. दूर करने की युक्ति । मिटाने का उपाय । जैसे,—शक की कोई दवा नहीं ।

४. अवरोध या प्रतिकार का उपाय । ठीक रखने की युक्ति । दुरुस्त करने की तदबीर । जैसे,—उसकी दवा यही है कि उसे दो चार खरी खोटी सुना दो ।

दवा पु † ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ दव]

१. वनाग्नि । वन में लगनेवाली आग । उ॰—कानन भूधर वारि बयारि महा विष व्याधि दवा अरि घेरे ।—तुलसी (शब्द॰) ।

२. अग्नि । आग । उ॰— (क) चल्यो दवा सो तप्त दवा दुति भूरिश्रवा भर ।—गोपाल (शब्द॰) । (ख) तवा सो तपत धरामंडल अखंडल और मारतंड मंडल दवा सो होत भोर तें ।—बेनी (शब्द॰) ।