दिल

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

शरीर का वह अंग जो खून को सभी अंगों तक पहुँचाता है

पर्यायवाची

अनुवाद

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

दिल संज्ञा पुं॰ [फा॰]

१. कलेजा । मुहा॰— दिल उलटना = दे॰ 'कलेजा उलटना ' । दिन मलना = दे॰ 'कलेजा मलना' । दिल मसोसकर रह जाना = दे॰ 'कलेजा मसोसकर रह जाना ' । दिल धुकड़ पुकड़ या धुकुर पुकर करना अथवा होना = दे॰ 'कलेजा धुकड़ पुकड़ होना' । दिल धक धक करना या होना = दे॰ 'कलेजा धक धक करना' ।

२. मन । चित्त । हृदय । जी । यौ॰— दिलगीर । दिलगुरदा । दिलचला । दिलचस्प । दिलचोर । दिलजमई । दिलजला । दिलदरिया । दिलदरियाव । दिलदार । दिलवर । दिलरुबा । मुहा॰— (किसी से) दिल अटकना = दे॰ 'जी लगना' । (किसी से) दिल अटकना = दे॰ 'जी लगाना' । (किसी पर) दील आना = दे॰ (किसी पर) 'जी आना' । दिल उकताना = दे॰ 'जी उकताना' । दिल उचटना = दे॰ 'जी उचटना' । दिल उचाट होना = दे॰ 'जी उचाट होना' । दिल उठना = दे॰ 'जी हटना' । दिल उमड़ना = दे॰ 'जी भर आना' । दिल उलटना =(१) दे॰ 'जी घबराना' । (२) दे॰ 'जी मिचलाना' । दिल उठाना = चित्त हटाना । मन फेर लेना । दिल कड़ा करना = हिम्मत बाँधना । साहस करना । चित्त में दृढ़ता लाना । दिल कडुवा करना = दे॰ 'दिल कड़ा करना' । दिल कबाब होना = दे॰ 'जी जलना' । दिल करना = दे॰ 'जी करना' । दिल का कँवल खिलना = चित्त प्रसन्न होना । मन में आनंद होना । दिल का गवाही देना = मन को किसी बात की संभावना या औचित्य का निश्चय होना । इस बात का विचार में आना कि कोई बात होगी या नहीं; अथवा यह बात उचित है या नहीं । जैसे,—(क) हमारा दिल गवाही देता है कि वह जरूर आवेगा । (ख) उनके साथ जाने के लिये हमारा जी गवाही नहीं देता । दिल का गुबार निकलना = दे॰ 'जी का बुखार निकलना' । दिल का बादशाह =(१) बहुत बड़ा उदार । (२) मनमौजी । लहरी । दिल का बुखार निकालना = दे॰ 'जी का बुखार निकालना' । दिल का भर जाना = दे॰ 'जी भर जाना' । दिल की दिल में रहना = दे॰ 'जी की जी में रहना' । दिल की फाँस = मन की पीड़ा या दुःख । दिल की कली खिलना = चित्त प्रसन्न होना । उ॰— शहजादा हुमायूँ फर के दिल की कली खिल गई । मुँहमाँगी मुराद पाई ।—फिसाना॰, भा॰ ३, पृ॰ १२४ । दिल की सैन बुझाना = मन की मुराद पूरी करना । उ॰— बैद कोई ऐसा नहिं जिस्से दिल की सैन बुझाऊँ ।—प्रेमघन॰, भा॰ २, पृ॰ १८९ । दिल कुढ़ना = चित्त का दुःखी होना । रंज होना । दिल कुढ़ाना = चित्त को दुःखी करना । रंज करना । दिल कुम्हलाना = चित्त का दुखी वा शोकाकुल होना । मन का सुस्त हो जाना । (किसी के) दिल के दरवाजे खुलना = जी का हाल मालूम होना । मन की बात प्रकट होना । दिल के फफोले फूटना = चित्त का उदगार निकलना । दिल के फफोले फोड़ना = हृदय का उदगार निकालना । किसी को भली बुरी सुनाकर अपना जी ठंढा करना । जली कटी कहकर अपना चित्त शांत करना । दिल को करार होना = चित्त में धैर्य या शांति होना । हृदय का शांत या संतुष्ट होना । दिल को पत्थर करना = मन को कडा करना । मन में शक्ति लाना । उ॰— दिल पत्थर करके सोचा ।— किन्नर॰, पृ॰ ३२ । दिल को मसोसना = शोक या क्रोध आदि तीव्र मनोवेगों को मन में ही दबा रखना । चित्त के उदगार को किसी कारणवश निकलने न देना । दिल को लगना = हृदय पर पूरा या गहरा प्रभाव पड़ना । किसी बात का जी में बैठना । चित्त में चुभना । जैसे,— उनकी सब बातें हमारे दिल में लग गई । दिल खट्ट होना = दे॰ 'जी खट्टा होना' । दिल खटकना = दे॰ 'जी खटकना' । दिल खींच लेना = मन मोह लेना । किसी का हृदय आकर्षित करना । उ॰— क्यों न दिल खींच ले उपज आला, जो कि उपजी कमाल भी कु छ ले ।—चोखे॰, पृ॰ ८ । दिल खुलना = दे॰ 'जी खुलना' । दिल खिलना = चित्त प्रसन्न होना । मन का प्रफुल्लित होना । दिल खोलकर = दे॰ 'जी खोलकर' । दिल चलना = दे॰ 'जी चलना' । दिल चलाना = दे॰ 'मन चलाना' । दिल चुराना = दे॰ 'जी चुराना' । दिल जमना । (१) किसी काम में चित्त लगना । ध्यान या जी लगना । जैसे,—तुम्हारा दिल तो जमता ही नहीं, तुम काम कैसे करोगे ? (२) किसी विषय या पदार्थ की ओर से चित्त का संतुष्ट होना । रुचि के अनुकूल होना । जी भरना । जैसे,—(क) जिस चीज पर दिल ही नहीं जमता उसे लेकर क्या करेंगे ? (ख) अगर तुम्हारा दिल जमे तो तुम भी हमारे साथ चलो । दिल जमाना = काम में ध्यान देना । चित्त लगाना । जी लगाना । जैसे—अगर तुम्हें काम करना है तो दिल जमाकर किया करो । दिल जलना = दे॰ 'जी जलना' । दिल जलाना = दे॰ 'जी जलाना' । (किसी काम में) दिल जान या दिलो जान से लगना = दे॰ 'जी जान से लगना' । दिल टूटना या टूट जाना = दे॰ 'जी टूट जाना' । दिल ठिकाने होना = मन में शांति, संतोष या धैर्य होना । चित्त स्थिर होना । जी ठहराना । दिल ठिकाने लगाना = मन को शांत या संतुष्ट करना । जी को सहारा देना । व्याकुलता दूर करना । दिल ठुकना = दे॰ 'जी ठुकना' । दिल ठोकना = मन को दृढ़ करना । जी को पक्का करना (क्व॰) । दिल डूबना = दे॰ 'जी डूबना' । दिल तड़पना = चित्त को यों ही, विशेषत: किसी के प्रेम में, बहुत व्याकुल होना । बहुत अधिक घबराहट या बेचैनी होना । उ॰—दिल तड़पकर रह गया जब याद आई आपकी ।—(शब्द॰) । दिल तोड़ना = हिम्मत तोड़ना । हतोत्साह करना । साहस भंग करना । दिल दहलना = दे॰ 'जी दहलना' । दिल दुखना = दे॰ 'जी दुखना' । दिल देखना = किसी के मन की परीक्षा करना । रुचि या प्रवृत्ति का पता लगाना । जी की थाह लेना । मन टटोलना । जैसे,—हमें रुपयों की कोई जरुरत नहीं है; हम तो खाली तुम्हारा दिल देखते थे । दिल देना = आशिक होना । प्रेम करना । आसक्त होना । मुहब्बत में पड़ना । दिल दौड़ना = दे॰ 'जी दौड़ना' । दिल दौड़ाना = (१) जी चलाना । इच्छा या लालसा करना । (२) ध्यान दौड़ना । चिंतन करना । सोचना । दिल धड़कना = दे॰ 'कलेजा धड़कना' । दिल पक जाना = दे॰ 'कलेजा पक जाना' । दिल पकड़ लेना या दिल पकड़कर बैठ जाना = दे॰ 'कलेजा पकड़ लेना' । दिल पकड़ा जाना = दे॰ 'जी पकड़ा जाना' । दिल पकड़े फिरना = ममता से व्याकुल होकर इधर उधर फिरना । विकल होकर घूमना । दिल पर नक्श होना = किसी बात का जी में जम जाना । जी में बैठ जाना । हृदयंगम होना । दिल पर मैल आना = मनमोटाव होना । पहले का सा प्रेम या सदभाव न रह जाना । प्रीति भंग होना । जी फट जाना । दिल पर साँप लोटना = दे॰ 'कलेजे पर साँप लोटना' । दिल पर हाथ रखे फिरना = दे॰ 'दिल पकड़े फिरना' । दिल पसीजना = दे॰ 'दिल पिघलना' । दिल पाना = आशय जानना । अंत:करण की बात जानना । मन की थाह पाना । दिल पीछे पड़ना = दे॰ 'जी पीछे पड़ना' । दिल फटना या फट जाना = दे॰ 'जी फट जाना' । दिल फिरना या फिर जाना = दे॰ 'जी फिर जाना' । दिल फिका होना = दे॰ 'जी खट्टा होना' । दिल बढ़ना = दे॰ 'जी बढ़ना' । दिल बढ़ाना = दे॰ 'जी बढ़ाना' । दिल बहलना = दे॰ 'जी बहलना' । दिल बहलाना = दे॰ 'जी बहलाना' । दिल बुझना = चित्त में किसी प्रकार का उत्साह या उमंग न रह जाना । मन मरना । दिल बुरा होना = दे॰ 'जी बुरा होना' । दिल बेकल होना = बेचैनी होना । घबराहट होना । दिल बैठा जाना = दे॰ 'जी बैठा जाना' । दिल झटकना = चित्त का व्यग्र या चंचल होना । मन में इधर उधर के विचार उठना । दिल भर आना = दे॰ 'जी भर आना' । दिल भरना = दे॰ 'जी भरना' । दिल भारी करना = दे॰ 'जी भारी करना' । दिल मसोसना = शोक, क्रोध या किसी दूसरे तीव्र मनोवेग का मन में ही दब रहना । दिल मारना = दे॰ 'मन मारना' । दिल मिलना = दे॰ 'जी मिलना' या 'मन मिलना' । दिल में आना = दे॰ 'जी में आना' । दिल में गड़ना या खुभना = दे॰ 'जी में गड़ना या खुभना' । दिल में गाँठ या गिरह पड़ना = दे॰ 'गाँठ' के अंतर्गत मुहा॰ । 'मन में गाँठ पड़ना' । दिल में घर करना = दे॰ 'जी में घर करना' । दिल में चुटकियाँ या चुटकी लेना = दे॰ 'चुटकी लेना' । दिल में चुभना = दे॰ 'जी में गड़ना या खुभना' । दिल में चोर बैठना = दे॰ 'मन में चोर बैठना' । दिल में जगह करना = दे॰ 'जी में घर करना' । दिल में फफोले पड़ना = चित्त को बहुत अधिक कष्ट पहुँचना । मन में बहुत दु:ख होना । दिल में फरक आना = सदभाव में अंतर पड़ना । मनमोटाव होना । दिल में बल पड़ना = दे॰ 'दिल में फरक आना' । दिल में रखना = दे॰ 'जी में रखना' । दिल मैला करना = चित्त में दुर्भाव उत्पन्न करना । मन मैला करना । दिल रुकना = दे॰ 'जी रुकना' । (किसी का) दिल रखना = दे॰ 'जी रखना' । दिल लगना = दे॰ 'जी लगना' । दिल लगाना = दे॰ 'जी लगाना' । दिल ललचना = दे॰ 'जी ललचना' । दिल लेना = (१) किसी को अपने पर आसक्त करना । अपने प्रेम में फँसाना । (२) अंत:करण की बात जानना । मन की थाह लेना । दिल लोटना = दे॰ 'जी लोटना' । दिल से उतरना या गिरना = दृष्टि से गिर जाना । प्रिय या आदरणीय न रह जाना । विरक्तिभाजन होना । दिल से = (१) जी लगाकर । अच्छी तरह । ध्यान देकर । (२) अपने मन से । अपनी इच्छा से । दिल से उठना = आपसे आप कोई काम करने की प्रवृत्ति होना । जैसे,—जब तुम्हारे दिल से ही नहीं उठता, तब बार बार कहकर तुमसे कोई क्या काम करावेगा ? दिल से दूर करना = भुला देना । विस्मरण करना । ध्यान छोड़ देना । दिल हट जाना = दे॰ 'जी फिर जाना' । (किसी का) दिल हाथ में रखना = किसी को प्रसन्न रखना । किसी को मन को अपने वश में रखना । दिल हाथ में लेना = किसी को प्रसन्न करके अपने अधिकार में रखना । वशीभूत रखना । दिल हिलाना = दे॰ 'जी दहलाना' । दिल ही दिल में = चुपके चुपके । गुप्त भाव से । मन ही मन । दिलो जान से = दे॰ 'जी जान से' ।

३. साहस । दम । जियट । जीवट । मुहा॰—दिल दिमाग का (आदमी) = बहुत साहसी और समझदार (आदमी) । यौ॰—दिलदार ।

४. प्रवृत्ति । इच्छा ।