दीन

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

विशेषण

दीन

  1. गरीब, जिसके पास कुछ भी (खाने पीने और रहने के लिए) नहीं होता या आवश्यकता से कम होता है।

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

दीन ^१ वि॰ [सं॰]

१. दरिद्र । गरीव । जिसकी दशा हीन हो । उ॰— दानी हौ सब जगत के तुम एकै मंदार । दारन दुख दुखियान के अभिमत फल दातार । अभिमत फल दातार देवगन सेवैं हित सों । सकल संपदा सोह छोह किन राखत चित सों । बरनै दीनदयाल छाँह तव सुखद बखानी । तोहि सेइ जो दीन रहै तौ तू कस दानी?— दीनदयाल (शब्द॰) ।

२. दुःखित । संतप्त । कातर । उ॰— आश्रम देख जानकी हीना । भए विकल जस प्राकृत दीना । — तुलसी (शब्द॰) । यौ॰— दीनदयाल । दीनबंधु । दीनानाथ ।

३. उदास । खिन्न । जिसमें किसी प्रकार का उत्साह या प्रसन्नता न हो । जिसका मन मरा हुआ हो । उ॰— (क) नवम सरल सब सन छल हीना । मम भरोस हिय हरष न दीना ।— तुलसी (शब्द॰) । (ख) ऐसेई दीन मलीन हुती मन मेरो भयो अब तो अति आरत ।— रसकुसुमाकर (शब्द॰) ।

४. दुःख या भय से अधीनता प्रकट करनेवाला । नम्र । विनीत । उ॰— दीन वचन सुनि प्रभु मन भावा । भुज बिसाल गहि हृदय लगावा ।— तुलसी (शब्द॰) ।

दीन ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰] तगर का फूल ।

दीन ^३ संज्ञा पुं॰ [अ॰] मत । मजहब । धर्मविश्वास । यौ॰— दीन ए इलाही, दीने इलाही = सम्राट् अकबर द्वारा चलाया हुआ एक पंथ जिसमें हिंदू धर्म तथा अन्य धर्मों की बातों का मिश्रण था । दीनदार । दीन दुखिया = निर्धन । विपन्न । दीन दुनिया = लोक परलोक । दीनदुनी ।

दीन ^४ संज्ञा पुं॰ [सं॰ दिन] दे॰ 'दिन' । उ॰— गेल दीन पुनु पलटि न आव ।— विद्यापति, पृ॰ ३०२ ।

दीन दुनिया संज्ञा पुं॰ स्त्री॰ [अ॰ दीन + फा॰ दुन्या] धर्म और संसार । उ॰— पलटू दुनिया दीन मैं उनसे बड़ा न कोइ । साहिब वही फकीर है जो कोइ पहुँचा होइ ।— पलटू॰, भा॰ १, पृ॰ ४ । मुहा॰— दीन दुनिया से बेखबर होना = न धर्म की परवाह करना और न समाज की । बेहोश होना । उ॰— आजादपाशा तमाम शब गशी के आलम में रहे, दीन दुनिया से बेखवर ।—फिसाना॰, भा॰ ३, पृ॰ १०६ ।