दूती

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

दूती संज्ञा स्त्री॰ [सं॰] प्रेमी का संदेसा प्रेमिका तक या प्रेमिका का संदेसा प्रेमी तक पहुँचानेवाली स्त्री । स्त्री और पुरुष को मिलानेवाली या एक का संदेसा दूसरे तक पहुँचानेवाली स्त्री । कुटनी । विशेष—साहित्य में दूतियाँ तीन प्रकार की मानी गई हैं—उत्तमा, मध्यमा और अधमा । उत्तमा दूती उसे कतहते हैं जो मीठी मीठी बातें कहकर अच्छी तरह समझाती हो । मध्यमा दूती उसे कहते हैं जो कुछ मधुर और कुछ कटु बातें सुनाकर अपना काम निकालना चाहती हो । केवल कटु बातें कहकर आपना काम निकालनेवाली दूती को अधमा दूती कहते हैं । सखी, नर्तकी, दासी, संन्यासिनी, धोबि, चितेरिन, तँबोलिन, गँधिन आदि स्त्रियाँ दूती के काम के लिये उपयुत्क समझी जाती है । पर्या॰—संचारिक । सारिक । दूतिका । कुट्टनी ।