दृष्ट

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

दृष्ट ^१ वि॰ [सं॰]

१. देखा हुआ ।

२. जाना हुआ । ज्ञात । प्रकट ।

३. लौकिक और गोचर । प्रत्यक्ष । विशेष—पातंजल दर्शन में दो प्रकार के विषय दृष्ट बतलाए गए हैं अर्थात् स्त्री, अन्न, पान आदि लौकिक विषय जिन्हें इंद्रियाँ भोगती हैं और आनुश्रविक विषय जो वेद प्रतिपादित स्वर्ग आदि से संबंध रखते हैं । इन दोनों प्रकार के विषयों से एक साथ निस्पृह हो जाने से वशीकार नामक वैराग्य उत्पन्न होता है ।

दृष्ट ^२ संज्ञा पुं॰

१. दर्शन ।

२. साक्षात्कार ।

३. सांख्य में तीन प्रकार के प्रमाणों में से एक । प्रत्यक्ष प्रमाण ।

४. स्वचक्र और परचक्र से होनेवाला भय (को॰) ।

५. डाकुओं का डर (को॰) ।