देना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

क्रिया

अनुवाद

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

देना ^१ क्रि॰ स॰ [सं॰ दान]

१. किसी वस्तु पर से अपना स्वत्व हटाकर उसपर दूसरे का स्वत्व स्थापित करना । दूसरे के अधिकार में करना । प्रदान करना । जैसे,—(क) उसने अपना मकान एक ब्राह्मण को दे दिया । (ख) जो दे उसका भला, जो न दे उसका भला । संयो क्रि॰—डालना ।—देना ।

२. अपने पास से अलग करना । सौंपना । हवाले करना । जैसे,— इसे हमें दे दो हम रखे रहें, जब काम पड़े ले लेना ।

३. हाथ पर या पास रखना । थमाना । जैसे,—(क) छड़ी उसे दे दो और छाता तुम ले लो, तब चलो । (ख) जरा यह चिट्ठी उन्हें तो दे दो, वे पढ़कर देख लें ।

४. रखना, लगाना या डालना । स्थापित, प्रयुक्त या मिश्रित करना । जैसे,—(क) सिर पर टोपी देना । (ख) छाता देना । (ग) जोड़ में पच्छड़ देना । (घ) तरकारी में चीनी देना । (ङ) यहाँ से लेकर वहाँ तक लकीर देना । उ॰—बक बिकारी देत ज्यों दाम रुपैया होत ।—बिहारी (शब्द॰) ।

५. मारना । प्रहार करना । जैसे,— थप्पड़ देना, चाँटा देना, पेट में कटारी देना ।

देना ^२ संज्ञा पुं॰ ऋण जिसे चुकाना हो । कर्ज । उधार लिया हुआ रुपया । जैसे,—तुम अपना सब देना चुकता कर दो । यौ॰—देना पावना ।