धड़क

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

धड़क संज्ञा स्त्री॰ [अनु॰ धड़]

१. हृदय का स्पंदन । हृदय के आकुंचन प्रसारण की क्रिया जो हाथ रखने से मालूम होती है । दिल के चलने या उछलने की किया । हृदय के स्पंदन का शब्द । दिल के कूदने की आवाज । तड़प । तपाक ।

३. भय, आशंका आदि के कारण हृदय का अधिक स्पंदन । अंदेशे या दहशत से दिल का जल्दी जल्दी और जोर जोर से कूदना । जी धक धक करने की क्रिया ।

४. आशंका । खटका । अंदेशा । भय । यौ॰—बेधड़क = बिना किसी खटके के । बिना किसी असमंज स या आगा पीछा के । निद्वँद्व । बिना किसी रुकावट या संकोच के । जैसे,—तुम बेधड़क भीतर चले जाओ ।

५. हिचक । झिझक । संकोच ।