धड़का

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

धड़का संज्ञा पुं॰ [अनु॰ धड़]

१. दिल की धड़कन ।

२. दिल के धड़कने का शब्द ।

३. खटका । अंदेशा । भय । मुहा॰—धड़का खुलना = साहस होना । भय जाता रहना ।

४. गिरने पड़ने का शब्द ।

५. पयाल का पृतला या डंडे पर रखी हुई काली हांड़ी आदि जिसे चिड़ियों को डराकर भगाने के लिये खेतों में रखते हैं । धोखा ।