सामग्री पर जाएँ

धैर्य

विक्षनरी से


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

धैर्य संज्ञा पुं॰ [सं॰ धैर्य्य]

१. धीरता । चित्त की स्थिरता । संकट, बाधा, कठिनाई या विपत्ति आदि उपस्थित होने पर घबराहट का न होना । अव्यग्रता । अव्याकुलता । धीरज । जैसे,— बुद्धिमान् विपत्ति में धैर्य रखते हैं ।

२. उतावला न होने का भाव । हड़बड़ी न मचाने का भाव । सब्र । जैसे, थोड़ा धैर्य धरो, अभी वे आते होंगे ।

३. चित्त में उद्वेग न उत्पन्न होने का भाव । निर्विकारचित्तता । विशेष—साहित्यदर्पण के अनुसार धैर्य नायक या पुरुष के आठ सत्वज गुणों में से एक है । क्रि॰ प्र॰—छोड़ना ।—धरना ।—रखना ।

४. साहस (को॰) ।

५. धृष्टता (को॰) ।