नगर

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

नगर संज्ञा पुं॰ [सं॰] मनुष्यों की वह बड़ी वस्ती जो गाँव या कस्बे आदि से बड़ी हो और जिसमें अनेक जातियों तथा पेशों के लोग रहते हों । शहर । विशेष—हमारे यहाँ के प्राचीन ग्रंथों में लिखा है कि जिस स्थान पर बहुत सी जातियों के अनेक व्यपारी और कारीगर रहते हों और प्रधान न्यायालय हो, उसे नगर कहते है । युक्तदिकल्प- तरु नामक ग्रंथ में लिखा है कि राजा को शुभ मुहुर्त में लंबा चौकोर, तिकानो या गोल नगर बसाना चाहिए । इसमें से तिकोना और गोल नगर बुरा समझा जाता है । लंबा नगर बहुत ही शुभ और स्थायी तथा चौकोर नगर चारों प्रकार के फल (अर्थ, धर्म, काम, मोक्ष) का देनेवाला माना जाता है । पर्या॰—पुर । पुरी । नगरी । पत्तन । पट्टन । पटभेदन । निगम । कटक । स्थानीय । पट्ट । यौ॰—राजनगर । नगरबसेरा । नगरनारि । नगरकीर्तन, आदि ।

शब्दव्युत्पत्ति[सम्पादन]

संस्कृत नगर से।

उच्चारण[सम्पादन]

संज्ञा[सम्पादन]

Wikipedia has an article on:

Wikipedia

लुआ त्रुटि package.lua में पंक्ति 80 पर: module 'Module:languages/data3/u' not found।

  1. कोई बस्ती; आवासीय ज़िलों, दुकानों और सुविधाओं और अपनी स्थानीय सरकार के साथ एक क्षेत्र; विशेष रूप से किसी गाँव से बड़ा और किसी शहर से छोटा।
  2. किसी भी सन्दर्भ के स्थान से अधिक शहरी केन्द्र।
  3. (ब्रिटेन, historical) कोई ग्रामीण बस्ती जिसमें सप्ताह में कम से कम एक बार बाज़ार लगता था।
  4. REDIRECT साँचा:label कोई म्युनिसिपल संगठन, जैसे कि निगम (कॉर्पोरेशन), जो जिस सत्ता का हिस्सा है, उस की विधियों से परिभाषित हैं।
  5. (ब्रिटेन, Scotland, dialect, obsolete) कोई खेत या farmstead; साथ ही, कोई court या farmyard.

उपयोग नोट्स[सम्पादन]

एक नगरीय शहर (अर्बन सिटी) आमतौर पर किसी ग्रामीण नगर (रूरल टाउन) से बड़ा होता है, और ग्रामीण नगर स्वयं किसी गाँव से बड़ा होता है। ग्रामीण क्षेत्रों में, कोई नगर शहरी माना जा सकता है। शहरी क्षेत्रों में, कोई नगर उपनगर या उपनगर में कोई गाँव माना जा सकता है। ये भेद तरल हैं और व्यक्तिपरक धारणा पर निर्भर करते हैं।

विभक्ति-रूप[सम्पादन]

साँचा:hi-noun-c-c

व्युत्पन्न शब्द[सम्पादन]

साँचा:der3

मराठी[सम्पादन]

संस्कृत[सम्पादन]