नगारा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

नगारा संज्ञा पुं॰ [अ॰ नक्कारहू] डुगडुगी या बाएँ की तरह का एक प्रकार का बहुत बड़ा और प्रसिद्ध बाजा । नगाड़ा । डंका । धौंसा । उ॰—गज ते आसन अधरहिं धारा । चले राथ तब बजे नगारा ।—कबीर सा॰, पृ॰ ४८७ । विशेष—जिसमें एक बहुत बड़ी कूँड़ी के ऊपर चमड़ा मढ़ा रहता है । कभी कभी इसके साथ इसी प्रकार का पर इससे बहुत छोटा एक और बाजा भी होता है । इन दोनों को आमने सामने रखकर लकड़ी के दो डंडों से, जिन्हें चोब कहते हैं, बजाते हैं । मुहावरों के लिये दे॰ 'नक्कारा' ।