नरम

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

नरम पु ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ नर्मन]दे॰ 'नर्म' । उ॰—प्रानसन सहचरि विसाखा नरम बचननि बोलि । भावना नवबधु मुख तें देति घूँघट खोलि ।—घनानद, पृ॰ ३०० ।

नरम ^२ वि॰ [फा़॰ नर्म]

१. कोमल । मृदु ।

२. लोचदार ।

३. शिथिल । ढीला ।

४. नजाकत से युक्त (प्रेम प्रसंग का हास- परिहास) । उ॰—लहि जाको आघात गात मुरझात नरम झट ।—प्रेमघन॰, भा॰१, पृ॰ ९ ।

नरम लोहा संज्ञा पुं॰ [हिं॰ नरम + लोहा] अग्नि में लाल करके हवा में ठंढा किया हुआ लौह जो मुलायम हो जाता है ।