नोट

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

नोट संज्ञा पुं॰ [अं॰]

१. टाँकने या निखने का काम । ध्यान रहने के लिये लिख लेने का काम । क्रि॰ प्र॰—करना ।— होना ।

२. लिखा हुआ परचा । पत्र । चिट्ठी । यौ॰ — नोट पेपर ।

३. टिप्पणी । आशय या अर्थ प्रकट करनेवाला लेख ।

४. सरकार की ओर से जारी किया हुआ वह कागज जिसपर कुछ रुपयों की संख्या रहती है और यह लिखा रहता है कि सरकार से उतना रुपया मिल जायगा । सरकारी हुंडी । विशेष— हिंदुस्तान में नोट दो प्रकार का होता है एक करेंसी, दूसरा प्रामिसरी । करेंसी नोट बराबर सिक्कों के स्थान पर चलता है और उसका रुपया जब चाहें तब मिल सकता है । प्रमिसरी नोट पर केवल सूद मिलता रहता है । सरकार माँगने पर उसका रुपया देने के लिये बाध्य नहीं है । प्रामिसरी नोट का भाव घटता बढ़ता है ।