पंचमी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पंचमी संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ पञ्चमी]

१. शुक्ल या कृष्णपक्ष की पाँचवीं तिथि । विशेष—व्रत आदि के लिये चतुर्थीयुक्ता पंचमी तिथि ग्राह्य मानी गई है ।

२. द्रैपदी ।

३. एक रागिनी ।

४. व्याकरण में अपादान कारक ।

५. एक प्रकार की ईंट यो एक पुरुष की लंबाई के पाँचवें भाग के बराबर होती थी और यज्ञों में बेदी बनाने में काम आती थी ।

६. तंत्र में एक मंत्रविधि ।

७. एक प्रकार की बिसात जिसपर गोटियाँ खेलते थे (को॰) ।