पकाना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

क्रिया[सम्पादन]

अनुवाद[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पकाना क्रि॰ स॰ [हिं॰ पकना] दे॰ फल आदि को पुष्ट और तैयार करना । जैसे, पाल में आम पकाना । संयो॰ क्रि॰—डालना ।—देना । —लेना ।

२. आँच या गरमी के द्वारा गलाना या तैयार करना । रींधना । सिझाना । जैसे, खाना पकाना, रोटी पकाना । मुहा॰—(मिट्टी का) बरतन पकाना = आँवें में आँच के द्वारा कड़ा और पुष्ट करना । कलेजा पकाना = जी जलाना । संताप पहुँचाना ।

३. फोड़े, फुंसी, घाव आदि को इस अवस्था में पहुँचाना कि उसमें पीब या मवाद आ जाय ।

४. मात्रा पूरी करना । सौदा पूरा करना । लगाना । जैसे,—चार रुपए का गुड़ पका दो (बनिये) ।