पटना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

नामवाचक संज्ञा

  1. भारत के बिहार राज्य की राजधानी।

यह भी देखें

विकिपीडिया
पटना को विकिपीडिया,
एक मुक्त ज्ञानकोश में देखें।

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

पटना ^१ क्रि॰ अ॰ [हिं॰ पट ( = जमीन के सतह के बराबर)]

१. किसी गड्ढे या नीचे स्थान का भरकर आस पास की सतह के बराबर हो जाना । समतल होना । जैसे,—वह झील अब बिलकुल पट गई है ।

२. किसी स्थान में किसी वस्तु की इतनी आधिकता होना कि उससे शून्य स्थान न दिखाई पड़े । परिपूर्ण होना । जैसे,—रणभूमि मुर्दों से पट गई ।

३. मकान, कुएँ आदि कि ऊपर कच्ची या पक्की छत बनाना ।

४. मकान की दूसरी मँजिल या कोठा उठाया जाना ।

५. सींचा जाना । सेराब होना । जैसे,— वह खेत पट गया ।

६. दो मनुष्यों के विचार, भाव, रुचि या स्वभाव में ऐसी समानता होना जिससे उनमें सहयोगिता या मित्रता हो सके । मन मिलना । बनना । जैसे,—हमारी उनकी कभी नहीं पट सकती ।

७. विचारों, भावों या ठचियों की समानता के कारण मित्रता होना । ऐसी मित्रता होना जिसका कारण मनों का मिल जाना हो । जैसे,—आजकल हमारी उनकी खूब पटती है ।

८. खरीद, बिक्री, लेन देन आदि में उभय पक्ष का मूल्य, सूद, शतों आदि पर सहमत हो जाना । तैं हो जाना । बैठ जाना । जैसे, सौदा पट गया, मामला पट गया, आधि ।

९. (ऋण या देना) चुकता हो जाना । (ऋण) भर जाना । पाई पाई अदा हो जाना । जैसे,—ऋण पट गया । संयो॰ क्रि॰—जाना ।

पटना ^२ संज्ञा पुं [सं॰ पट्टन] दे॰ 'पाटलिपुत्र' ।