पण

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पण संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. कोई खेल जिसमें हारनेवाले को कुछ परिमित धन अथवा की निर्दिष्ट वस्तु जीतनेवाले को देनी पड़े । कोई कार्य जिसमें बाजी बदी गई हो । जूआ । द्यूत ।

२. प्रतिज्ञा । शर्त । मुआहिदा । कौल करार । संधि । उ॰—मेरा स्त्रीत्व क्या इतने का भी आधिकारी नहीं कि अपने को स्वामी समझनेवाला पुरुष उसके लिये प्राणों का पण लगा सके ।—ध्रुव॰, पृ॰ २५ ।

३. वह वस्तु जिसके देने का करार या शर्त हो । जैसे, किराया, भाड़ा, परिश्रमिक आदि ।

४. मोल । कीमत । मूल्य । ५ । फीस । शुल्क ।

६. धन । संपत्ति । जायदाद ।

७. क्रय विक्रय की वस्तु । सौदा ।

८. व्यवहार । व्यापार । व्यवसाय ।

९. स्तुति । प्रशंसा ।

१०. किसी के मत से ११ और किसी के मत से २० माशे के बराबर ताँबे का टुकड़ा जिसका व्यवहार सिक्के की भाँति किया जाता था ।

११. मद्यविक्रेता । कलाल (को॰) ।

१२. गृह । घर । वेश्म (को॰) ।

१३. प्राचीन काल की एक विशेष नाप जो एक मुट्ठी अनाज के बराबर होती थी ।