पतंगा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पतंगा संज्ञा पुं॰ [सं॰ पतङ्ग]

१. पतंग । कोई उड़नेवाला कीड़ा मकोड़ा । फतिंगा या पाँखी आदि ।

२. परदार कीड़ों की जाति का एक विशेष कीड़ा जो प्रायः घासों अथवा वृक्ष की पत्तियों पर रहता है । फतिंगा ।

३. चिनगारी । स्फुलिंग । अग्निकण ।

४. दीए की बत्ती वह अंश जो जलकर उससे अलग हो जाता है । फूल । गुल ।