पवन

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

हिन्दी

यह हवा के चलने को कहते हैं। इसका उपयोग मुख्यतः पवन ऊर्जा से जुड़े वाक्यों में अधिक करते हैं।

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

पवन ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. वायु । हवा । मुहा॰— पवन का भूसा होना = उड़ जाना । न ठहरना । कुछ न रहना । उ॰— माधो जू सुनिए ब्रज ब्यौहार । मेरो कह्मो पवन को भुस भयो गावत नंदकुमार ।— सूर (शब्द॰) ।

२. कुम्हार का आँवा ।

३. जल । पानी ।

४. श्वास । साँस ।

५. अनाज की भूसी अलग करना ।

६. प्राणवायु ।

७. विष्णु ।

८. पुराणानुसागर उत्तम मनु के एक पुत्र का नाम ।

पवन पु ^२ वि॰ शुद्ध । पवित्र । पावन ।