पागल

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पागल वि॰ सं॰ [वि॰ स्त्री॰ पगली, पागलिनी]

१. विक्षिप्त । बौड़हा । सनकी । बावला । सिड़ी । दजिसका दिमाग ठीक न हो । यौ॰—पागलखाना । पागलपन ।

२. क्रोध, शोक या प्रेम आदि के उद्धेग में जिसकी भंला बुरा सोचने की शक्ति जाती रही हो । जिसके होश हवास दुरुस्त न हों । आपे से बाहर । जैसे, —(क) वे उनके प्रेम में पागल हो गए हैं । (ख) वे मारे क्रोध के पागल हो गए हैं ।

३. मुर्ख । नासमझ । बेवकुफ । जैसे,—तुम निरे पागल हो ।