पुन

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पुन † ^१ अव्य॰ [सं॰ पुनः] दे॰ 'पुनः' । उ॰—पुन भविष्य प्रादुर्भाव में पुष्कर क्षेत्र की उतपति कौ बर्नन है—पौद्दार अभि॰ ग्रं॰, पृ॰ ४८४ ।

पुन ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ पुण्य] पुण्य । धर्म । सबाब ।

पुन ^१ संज्ञा पुं॰ [देश॰]

१. जंगली बादाम का पेड़ जो भारत के पश्चिमी किनारों पर होता है । विशेष—इसके फूल और पत्तियाँ दवा के काम आती हैं और फल में से तेल निकाला जाता है । इस वृक्ष में एक प्रकार का गोंद निकलता है ।

२. कलपुन नामक वृक्ष जिसकी लकड़ी इमारत बनाने के काम में आती हैं । इसके बीजों से एक प्रकार का तेल भी निकलता है ।

३. तलवार की मुठिया का नीचेवाला सिरा ।