पुनः

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पुनः अव्य॰ [सं॰ पुनर, पुनः]

१. फिर । दोबारा । दूसरी बार ।

२. उपरांत । पीछे । अनंतर । विशेष—संस्कृत व्याकरण के अनुसार विभिन्न वर्णों का योग होने पर यह पुनः पुनर् और पुनश् आदि रूपों में परिवर्तित होता है ।