पोप

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पोप संज्ञा पुं॰ [अं॰] ईसाइयों के कैथलिक संप्रदाय का प्रधान धर्मगुरु । विशेष— इसका प्रधान स्थान यटूरोप में इटली राज्य का रोम नगर है । चौदहवीं शताब्दी तक संसार के सभी ईसाई धर्मावलंबी राज्यों पर पोप का बडा प्रभाव था । पद्रहवीं शताब्दी में लूथर नामक एक नए संप्रदायस्थापक की शिक्षा से पोप का अधिकार घटने लगा, पर पुराने कैथलिक संप्रदाय के माननेवालों में पोप का अभी वैसा ही आदर है । उनका अभिषेक आदि उसी प्रकार किया जाता है जैसे महाराजाओं का होता है । यौ॰—पोपलीला — धार्मक:आडंबर । झूठा प्रदर्शन । ढोंग ।