प्रकाशित

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

प्रकाशित वि॰ [सं॰]

१. जिसमें से प्रकाशं निकल रहा हो । चमकता हुआ । उ॰— यह रतन दीप हरि प्रेम की सदा प्रकाशित जग रहै ।—भारतेंदु ग्रं॰, पृ॰ ४६३ ।

२. जिसपर प्रकाश पड़ रहा हो । चमकता हुआ ।

३. जो प्रकाश में आ चुका हो । विज्ञापित । प्रकट । जैसे,—यह पुस्तक हाल हो में प्रकाशित हई है ।