प्रसारण

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

प्रसारण संज्ञा पुं॰ [सं॰] [वि॰ प्रसारित, प्रसार्य्य]

१. फैलाना । पसारना । विस्तृत करना । विशेष—वैशेषिक में जो पाँच प्रकार के कर्म कहे गए हैं उनमें एक कर्म यह भी है ।

२. बढ़ाना

३. शत्रु को चारों ओऱ से घेरना (को॰) ।

४. खोलना । प्रदर्शित करना (को॰) ।

५. संप्रसारण । व्याकरण में य् व् र् ल् का इ उ ऋ एवं लृ में बदलना (को॰) ।