प्राकृतिक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

प्राकृतिक ^१ वि॰ [सं॰] १ जो प्रकृति से उत्पन्न हुआ हो ।

२. प्रकृति के विकार ।

३. प्रकृति संबंधी । प्रकृति का ।

४. स्वाभाविक । सहज । उ॰—इसी प्रकार शिशिर में दुशाला ओढ़े, 'गुलगुली गिलमें, गलीचा' बिछाकर बैठे हुए स्वाँग से धूप में खपरैल पर बैठी बदन चाटती हुई बिल्ली में अधिक प्राकृतिक भाव है ।— रस॰, पृ॰ १४३ ।

५. साधारण । मामूली ।

६. भौतिक ।

७. सांसारिक । लौलिक ।

८. नीच ।

प्राकृतिक ^२ संज्ञा पुं॰ दे॰ 'प्राकृतप्रलय' ।

प्राकृतिक चिकित्सा संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ प्राकृतिक + चिकित्सा] वह चिकित्सा पद्धति जिसमें प्रकृतिजन्य साधनों (जैसे, मिट्टी, पानी आदि) से चिकित्सा की जाती है ।

प्राकृतिक भूगोल संज्ञा पुं॰ [सं॰] भूगोल विद्या का वह अंग जिसमें भौगोलिक तत्वों का तुलनात्मक दृष्टि से विचार होता है । विशेष—भूगर्भ शास्त्र से इसमें यह अंतर है कि भूगर्भ शास्त्र तो पृथ्वी की बनावट के प्राचीन इतिहास से संबंध रखना है; पर इस शास्त्र में उसकी वर्तमान स्थिति तथा भिन्न भिन्न प्राकृतिक अवस्थाओं का वर्णन होता है । इस विद्या में यह बतलाया जाता है कि पर्वत, समुद्र, नदियाँ, द्वीप और महाद्वीप आदि किस प्रकार बनते है, समुद्र में ज्वार भाटा किस प्रकार आता हैं, पृथ्वी के भिन्न भिन्न भागों में प्राणियों और वनस्पतियों आदि का किस प्रकार विभाग हुआ है, वातावरण का तापमान कहाँ किस प्रकार और कितना घटता बढ़ता है, और किस प्रकार ऋतुपरिवर्तन होता है, और नदियों तथा झीलों आदि की सृष्टि किस प्रकार होती है, आदि आदि ।