फगुहारा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

फगुहारा पु † संज्ञा पुं॰ [हिं॰ फगुआ + हार (प्रत्य॰)] फाग खेलनेवाला । उ॰—बाहर सों फगुहार जुरे जुव जन रस राते ।— प्रेमघन, भा॰ १, पृ॰ ३८३ ।

फगुहारा † संज्ञा पुं॰ [हिं॰ फगुआ + हारा (प्रत्य॰)] [स्त्री॰ फगुहारी, फगुहारिन]

१. वह जो फाग खेलने के लिये होली में किसी के यहाँ जाय । उ॰—मुँद्यो ब्रजमंडल मदन सुख सदन में नंद को नंदन चित चोरन डरत है । अंबर में राधा मुख चंद्र उयो चाहै तौ लों फगुहारे पाहरुनि सोर सरसत हैं ।— देव (शब्द॰) ।

२. फगुआ गानेवाला पुरुष ।