फणी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

फणी संज्ञा पुं॰ [सं॰ फणिन्]

१. साँप । उ॰—काल फणी की मणि पर जिसने फैलाया है अपना हाथ ।—साकेत, पृ॰ ३८६ ।

२. केतु नामक ग्रह ।

३. सीसा ।

४. मरुवा ।

५. महाभाष्यकार पतंजलि का नाम (को॰) ।

६. सर्पिणी नामक ओषाधि ।