फफदना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

फफदना † क्रि॰ अ॰ [सं॰ प्रपतन या अनु॰]

१. किसी गीले पदार्थ का बढ़कर फैलना । जैसे, गोबर का फफदना ।

२. फैलना । कढ़ना (चर्मरोग या घाव आदि के संबंध में) । जैसे, दाद का फफदना । घाव का फफदना ।