फबना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

फबना क्रि॰ अ॰ [सं॰ प्रभवन, प्रा॰ पभवन] शोभा देना । सुंदर या भला जान पड़ना । खिलना । सोहना । उ॰—(क) मान राखिबो माँगिबो पिय सो नित नव नेह । तुलसी तीनिउ तब फबै ज्यों चातक मति लेहु ।—तुलसी (शब्द॰) । (ख) फबि रही मोर चंद्रिका माथे छबि की उठत तरंग । मनहु अमर पति धनुष बिराजत नव जलधर के संग ।—सूर (शब्द॰) ।