फरकन

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

फरकन संज्ञा पुं॰ [हिं॰ फरकना]

१. फड़कने का भाव । दे॰ 'फड़क' । उ॰—अँग फरकन अरु अरुनई इत्यादिक अनुभाव । गर्व असूथा उग्रता तहँ संचारी नाँव ।—पद्माकर (शब्द॰) ।

२. फरकने की क्रिया । फड़क । उ॰—एरे बाम नैन मेरे एरे भुज बाम आज रोरे फरकन ते जो बालम निहारिहौं ।—मतिराम (शब्द॰) ।