बँटना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बँटना ^१ क्रि॰ अ॰ [सं॰ बण्टन या वर्तन]

१. विभाग होना । अलग अलग हिस्सा होना ।जैसे,—यह प्रदेश तीन भागों में बँटा है ।

२. कई व्यक्तियों को अलग अलग दिया जाना । कई प्राणियों के बीच सवको प्रदान किया जाना । जैसे,— (क) वहाँ गरीबों को कपड़ो बँटता है । (क) अब तो सब आम बँट गए, तुम्हारे लिये एक भी न बचा । सयो॰ क्रि॰—जाना ।

बँटना ^२ संज्ञा पुं॰ [हिं॰] दे॰ 'बटना' ।