बंसलोचन

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बंसलोचन संज्ञा पुं॰ [सं॰ वंशलोचन] बाँस का सार भाग जो उसके जल जाने के बाद सफेद रंग के छोटे छोटे टुकड़ों के रूप में पाया जाता है । विशेष—यह रंगपूर, सिलहट और मुरशिदाबाद में लंबी पोरवाले बाँसों की गाँठों मे से उनको जलाने पर निकलता है । इसे बसकपूर भी कहते हैं ।