बकनालि

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बकनालि संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰] दे॰ 'बंकनाल'—२ । उ॰—मूल सहस्त्र पवनाँ बहै । बंकनालि तब बहत रहै ।—गोरख॰, पृ॰ १८१ ।