बकरा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बकरा संज्ञा पुं॰ [सं॰ बर्कर] [स्त्री॰ बकरी] एक प्रसिद्ध चतु- ष्पाद पशु । उ॰— बकरी खीती घास है ताकी काढ़ी खाल । जो नर बकरी खात है तिनको कवल हवाल ।— कबीर (शब्द॰) । पर्या॰— अज । छाग । बकर मुहा॰— बकेर की माँ कब तक खैर मनाएगी = दोषी या अप- राधी कब तक छिपा रह पाएगा । उ॰— बस आगे यह डोंगा चलता नजर नहीं आता । बकरे की माँ कब तक खैर मनाएगी ।— मान॰, भा॰ १, पृ॰ ६ ।