बचत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बचत संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ बचना]

१. बचने का भाव । बचाव । रक्षा । उ॰— होती जो पै बचत कहुँ, धीरज ढालन ओट । चतुरन हिये न लागती नैन बान की चोट ।—रसनिधि (शब्द॰) ।

२. बचा हुआ अंश । वह भाग दो व्यय होने से बच रहे । शेष ।

३. लाभ । मुनाफा ।