बटुआ

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बटुआ ^१ संज्ञा पुं॰ [हिं॰] दे॰ 'बटुवा' । उ॰— सिंगी सेल्ही भभृत और बटुआ साई स्वाँग से न्यारा हो ।—कबीर॰ श॰, पृ॰ १६ ।

बटुआ ^२ वि॰ [हिं॰ बटना] बटा हुआ । जैसे,—बटुआ सूत, बटुआ रस्सा ।

बटुआ ^३ वि॰ [हिं॰ बाँटना] सिल आदि पर पीसा हुआ । उ॰— कटुआ बटुआ मिला सुवासू । सीका अनवन भाँति गरासू ।— जायसी (शब्द॰) ।