बनकर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बनकर संज्ञा पुं॰ [सं॰ बनकर]

१. एक प्रकार का अस्त्रसंहार । शत्रु के चलाए हूए हथियार को निष्फल करने की युक्ति ।

२. जंगल में होनेवाले पदार्थं अर्थात् लकड़ी, घास आदि की आमदनी ।

३. सूर्य (डिं॰) ।